नवोत्पल में आपका स्वागत है...!

Saturday, August 1, 2020

राजीव तिवारी जी की कुछ कविताएँ

1)

चांद की सौम्यता 

Image Source: Pinterest

सौम्यता चांद का स्वभाव है 
चांदनी शांत और शीतल होती है 
सूर्य के लिए दिए से गुजर करने को लेकर 
चांद के मन में एक संकोच भाव रहता है 
इसलिए वह उतना ही चमकता है 
कि कोई यह न कह दे 
अपना प्रकाश नहीं 
सूर्य से उधार लिया है 
फिर भी देखो 
कितना इठला रहा है 
कैसे ऐंठ रहा है
सूरज
बनने चला है ।

2)

बरसाती नदी 

बरसात के दिनों को छोड़कर 
साल के बांकि दिनों में
यह नदी कम 
और परती पराट ज्यादा दिखती है 
आषाढ़ के मेघों की उमड़ घुमड़ सुनकर
पाताल की हदों में जा चुकी नदी 
वापस लौटने लगती है 
धरातल पर
बारिश की बूंदों के साथ
इसमें लौटने लगता है नदीपन
लौटने लगता है जल 
लौटने लगता है प्रवाह
लौटने लगता है जीवन
सावन भादो आते आते 
नदी लबालब भरकर उपटने लगती है 
सरसता और हरियाली
रचने लगती है अपने किनारों पर 
और फिर से उसे नदी समझने लगते हैं लोग ।

3)

स्त्री 

स्त्री जितना कहती है
उससे ज्यादा सहती है
जितना जब्त रहती है
उससे कम बहती है
रचती है वह एक पूरी सृष्टि 
बस अपने लिए थोड़ी सी जगह 
थोड़ी सी जिंदगी नहीं रच पाती 
फूल रच लेती है
पर उसमें सुगंध नहीं रच पाती अपने लिए
पिंजरे में बंद रहते रहते
वह उड़ना भूल जाती है
अपना होना भूला देती  है
लड़ती है दुनियां से 
तो पंखों को लहूलुहान कर उड़ती है 
और अपना होना पा लेती है 
ईश्वर ने उसे सृजा है 
ईश्वर की सृष्टि को 
आगे बढ़ा कर
वह ईश्वर का पुनर्सृजन करती है 
ईश्वर भी स्त्री का आभारी रहता है
सभी संबंधों की धूरी है स्त्री 
उससे जुड़कर ही 
अक्षय वट की छांह है स्त्री
एक निरंतर बहती नदी है 
सुगंध से पूरी बयार है 
रंगों का सबसे सुंदर संयोजन 
कला का उत्स
सौंदर्य की सबसे आदिम परिभाषा है स्त्री ।

4)


दुःखी रहना

The sad man Painting by Alma Gallagher

बहुत कुछ पाकर भी 
दुखी रहता है आदमी 
सबकुछ न पाने का दुख
जो कुछ छूट गया उसका दुख 
इससे ज्यादा पा सकते थे उसका दुख
दूसरों को मुझसे अधिक 
और हिस्से से ज्यादा मिल गया इसका दुख 
दुःखी रहना स्वाभाविक आदत है मनुष्य की 
हंसते तो हम 
बमुश्किल कभी कभी हैं 
रोते उम्र भर हैं 
सुख भी लिखना होता है हमें 
तो उसे दुख की स्याही में डूबाकर लिखते हैं
ऐसी ही हैं हम 
दुःखी रहने का कोई कारण हो
दुःखी रहने के लिए 
ऐसा कोई जरूरी नहीं
बहुत बार 
दुःखी रहने की आदत को 
निभाने के लिए हम दुःखी रहते हैं ।

_______राजीव कुमार तिवारी _________________________________

संपर्क 


राजीव कुमार तिवारी 
देवघर, झारखंड 
9304231509, 9852821415



0 comments:

Post a Comment

आपकी विशिष्ट टिप्पणी.....